काव्य प्रांगणसाहित्य

News Leaders : साहित्य_ काव्य प्रांगण

साहित्य_ काव्य प्रांगण

“उसके हाथ
अपने हाथ में लेते हुए मैंने सोचा
दुनिया को
हाथ की तरह गर्म और सुंदर होना चाहिए

_केदारनाथ सिंह, रचनाकार

यूट्यूब लीडर्स के लिए यहाँ क्लिक करें
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Don`t copy text!