NLS स्पेशल

NEWS Leaders : नर्मदा का जल स्तर बढ़ा,ओंकारेश्वर बांध के सात गेट खुले, लाउडस्पीकर से नदी के नजदीक नहीं जाने की चेतावनी, पांच जिले के कलेक्टर्स को आदेश

नर्मदा का जल स्तर बढ़ा,ओंकारेश्वर बांध के सात गेट खुले, लाउडस्पीकर से नदी के नजदीक नहीं जाने की चेतावनी, पांच जिले के कलेक्टर्स को आदेश

“नर्मदा नदी में बढ़ते जल स्तर पर शनिवार सुबह बांध के गेट जरूरत के अनुसार खोलने की सूचना एनएचडीसी प्रबंधन ने जारी कर थी। इस वर्षा काल में पहली बार बांध के गेट खुले है। पिछली बार बारिश कम होने से इंदिरा सागर और ओंकारेश्वर बांध के गेट एक बार भी नहीं खुले थे।”

न्यूज़ लीडर्स : ललीत दुबे ओंकारेश्वर, आशोक गुप्ता की रिपोर्ट

मप्र में हो रही अत्यधिक बारिश को लेकर नदी-नालो में आई बाढ़ को लेकर नर्मदा नदी का जल स्तर बढ़ जाने से
ओंकारेश्वर बांध के सात गेट खोलने पड़े। जिसके चलते बढ़ते जल स्तर को देखते हुए ओंकारेश्वर में नगर परिषद की ओर से लाउडस्पीकर पर लगातार लोगों को नर्मदा नदी के नजदीक नहीं जाने की चेतावनी दी जा रही है।

“ओंकारेश्वर बांध के गेट खुलने से बढ़े जल स्तर का असर खरगोन और बड़वानी जिले में बहने वाली नर्मदा नदी में भी देखा जायेगा। वहीं इंदिरा सागर बांध का जलस्तर 258 मीटर पहुंच चुका है। यहां अभी गेट खोलने जैसी स्थिति नजर नहीं आ रही है”

▪︎ओंकारेश्वर बांध के सात गेट खोलने से बढ़ा जल स्तर.》》

खंडवा जिले के ओंकारेश्वर बांध के जलाशय का जलस्तर 196.14 मीटर पहुंचने से शनिवार सुबह करीब 9:30 बजे बांध के सात गेट खोल दिए गए हैं। आधा आधा मीटर की ऊंचाई तक खोले गए गेट से नर्मदा में प्रति सेकंड 850 क्यूमेक्स पानी छोड़ा जा रहा है। इससे बांध के डाउन स्ट्रीम में नर्मदा का जल स्तर करीब एक फीट बढ़ गया है जो165 फीट के गलभग हो गया है।

ओंकारेश्वर बांध प्रबंधन के डीजीएम केएस पांडे ने बताया कि बर्षा के रूप को देखते हुए एतिहात बतौर गेट खोले गए हैं। डाउनस्ट्रीम के सभी जिला प्रशासन को इसकी सूचना दे दी गई है। लोगों और नाविकों को नर्मदा और बांध क्षेत्र से दूर रहने की सूचना दी गई है।

▪︎ओंकारेश्वर बांध के गेट खोलने से पहले पांच जिले के कलेक्टरों को जारी आदेश.》

ओंकारेश्वर बांध जल ग्रहण में हो रही अति वर्षा के कारणआज प्रात:9 बजे से ओंकारेश्वर बांध के गेट खोले जाएंगे। जिसके कारण बांध के डाउनस्ट्रीम में पानी बढेगा। खंडवा,देवास, खरगोन,बड़वानी और धार पांच जिलों के प्रसाशन को सुरक्षा की दृष्टि से किया अलर्ट। पानी छोड़े जाने पर कोई भी नर्मदा नदी में स्नान अथवा किनारों पर न जाए।

▪︎और अंत में.》

इंदिरा सागर बांध का जलस्तर 258 मीटर पहुंच चुका है। 31 जुलाई तक निर्धारित जलस्तर रखने के लिए यहां पावर हाउस की आठों टरबाइन चलाकर पूरी क्षमता से बिजली का उत्पादन किया जा रहा है। यहां अभी गेट खोलने जैसी स्थिति नजर नहीं आ रही है। एनएसडीसी प्रबंधन द्वारा आज जल स्तर और ऊपरी क्षेत्र से आने वाले पानी की मात्रा का आकलन कर गेट खोलने की संभावना पर विचार कर निर्णय लिया जाएंगा।

यूट्यूब लीडर्स के लिए यहाँ क्लिक करें
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Don`t copy text!