खास-खबरमध्यप्रदेशराजकाजविविध

NEWS Leaders : ठगी का नया तरीका, आयकर विभाग के नाम से फर्जी नोटिस पोस्ट से भेज रहे ठग

NEWS Leaders : ठगी का नया तरीका, आयकर विभाग के नाम से फर्जी नोटिस का लिफाफा पोस्ट से भेज रहे ठग

न्यूज लीडर्स : सेंधवा

ठगों ने ठगी के लिए अब एक नया तरीका निकाला है। जिले के करदाताओं के पास आयकर विभाग के नाम से धारा 148A(b) के फर्जी नोटिस स्पीड पोस्ट के माध्यम से भेजे जा रहे हैं।

“कुछ कर सलाहकारों के पास ऐसे करदाता पहुंचे हैं, जिन्हें नोटिस प्राप्त हुए हैं, नोटिस को लेकर जब वे कर सलाहकार आयकर विभाग पहुंचे तो आयकर अधिकारी ने उन नोटिसों को देखते ही फर्जी करार दिया।”

नोटिस आयकर विभाग से जुड़ी है, इसलिए कारोबारी न तो खुल कर शिकायत कर रहें है और न ही अपना नाम उजागर करना चाहते हैं। इस प्रकार के फर्जीवाड़े को देखकर आम कर दाताओं में भय की स्थिति निर्मित हो रही है।

सेंधवा के वरिष्ठ कर सलाहकार बीएल जैंन ने ऐसे ठगों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करते हुए उनके नाम भी उजागर करने की मांग आयकर विभाग के अधिकारी से की है ताकि भविष्य में इस प्रकार की ठगी की पुनरावृत्ति न हो। क्योंकि जो फर्जी नोटिस करदाताओं को मिले हैं।

उसमें आयकर विभाग के “लोगो’’ सहित विभाग द्वारा जारी होने वाले सूचना पत्रों के समान ही भाषा और आयकर अधिकारी के फर्जी डिजिटल हस्ताक्षर भी रहते हैं। इस वजह से सामान्य करदाता भयभीत हो जाता है, लेकिन फर्जी सूचना पत्रों को देखा गया तो उसमें अनेक ऐसी त्रुटियां हैं जिसे कर सलाहकार बारीकी से देखकर उसकी वास्तविकता को समझ सकता है।

श्री जैन ने क्षेत्र के करदाताओं से भी अपील की है कि उन्हें जब भी आयकर विभाग से संबंधित सूचना पत्र प्राप्त हो अपने कर सलाहकार अथवा आयकर कार्यालय में संपर्क करें, क्योंकि वर्तमान व्यवस्था के तहत आयकर विभाग द्वारा जो भी नोटिस जारी किये जाते हैं वे ऑनलाईन जारी किये जाते हैं और जो संबंधित करदाता के ई-फाईलिंग पोर्टल पर स्पष्ट रूप से देखे जा सकते हैं, यदि ऐसा नही होता है और नोटिस यदि सिर्फ स्पीड पोस्ट के माध्यम से आती है तेा वे निश्चित रूप से संदिग्ध हेाती है ।

श्री जैन ने यह भी कहा कि इस प्रकार के फर्जीवाड़े को रोकने के लिए कर सलाहकारों को भी विषेष सतर्कता बरतने एवं ऐसे सूचना पत्र प्राप्त होने पर तत्काल अपने क्षेत्रीय आयकर कार्यालय से सम्पर्क करना चाहिए, ताकि भविष्य में इस प्रकार की ठगी की पुनरावृत्ति न हो।

श्री जैन ने कहा कि इस प्रकार के फर्जीवाड़े के संबंध में जिले के आयकर अधिकारी श्री नेमानी श्रीनिवास को जानकारी दी गई तो उनके द्वारा बताया गया कि उक्त फर्जी नोटिस का मामला उनके संज्ञान में है, जैसे ही उन्हें उक्त ठगी की जानकारी मिली, उन्होंने तत्काल अपने उच्च अधिकारियों को उक्त ठगी की जानकारी प्रेषित कर दी है और बताया कि विभाग अपने स्तर पर इस मामले में समुचित जांच कर उचित कार्यवाही करेगा। आयकर अधिकारी ने भी ऐसे मामलों में करदाताओं से सतर्क रहने की अपील की है।

News Leaders

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Don`t copy text!